Saturday, 20 August 2011

सिमफायटम (Symphytum)

यह हड्डी जोड़ दवा है. जब हड्डी टूटने के बाद में उसे प्लास्टर में बाँध दिया जाता है तो इस दवा के सेवन से हड्डी जुड़ने की क्रिया जल्दी होती है.

हड्डी पर हुए घाव से जब आस पास सुजन आ जाती है तब भी यह प्रयुक्त होती है.

2 comments:

  1. एक वृद्धा तकरीबन ७० साल की उम्र होगी, रास्ते पर चलते वक़्त किसी साइकल वाले से टकराकर गिर पड़ी.

    उसकी जांघ की हड्डी टूट गयी. जांघ में और्थोपैडिक सर्जन ने आपरेशन करके प्लेट लगा दी.

    उसके पुरे पैर पर खास कर निचले पैर पर भारी सुजन आ गयी. पेशंट को एसिडिटी की तकलीफ होने की वजह से वह ऐलिपैथी की दवा खा नहीं सकी. उसे सिमफायटम २०० की २-२ गोली सुबह शाम दी गयी. उसे काफी राहत महसूस हुई. बाद में उसे सिमफायटम १ एम् की २-२ गोली सुबह शाम दी गयी. उसका पैर लगभग ठीक हो गया.

    सिमफायटम का प्रयोग अक्सर मदर टिंचर के रूप में किया जाता है लेकिन यहाँ उसने ऊँची पोटेंसी में जबरदस्त काम किया.

    ReplyDelete
  2. H पाइलोरी इन्फेक्शन के लिए क्या कर सकते है इसका इलाज होमियोपैथी में उपलब्ध है ?

    ReplyDelete