Saturday, 20 August 2011

रहस टॉक्स (Rhus Tox)

यह व्यक्ति जब एक जगह स्थिर होता है तो उसके बदन में और जोड़ो में दर्द बढ़ जाता है. सुबह उठने के बाद वह अकड़ जाता है. बैठने से भी अकड़ जाता है.

व्यक्ति को जब चोट लगती है तो उसमे अकड़न अक्सर आती है इसलिए इस दवा को चोट के बाद प्रयुक्त किया जाता है.

सर्दी खासी और गले में खराश भी यहाँ संभव है.

यह व्यक्ति बारिश के दिनों में या ठण्ड के दिनों में बदतर हो जाता है.

त्वचा में खुजली हो सकती है.

2 comments:

  1. इस दवा का प्रयोग मैंने अनेक अनेक अनेक बार किया.

    एक सब्जीवाली ने मुझे कहा की उसके हाथ में फ्रैकचर ठीक होने के बाद अक्सर दर्द रहता है. उसे रहस टाक्स ३० और आर्निका ३० सुबह शाम २-२ गोली लेने को कहा गया. उसे पूरी राहत मिली.

    जब भी कोई मेरे पास आकर कहता है की उसका छोटा मोटा अपघात हुआ है मई उसे रहस टाक्स और आर्निका दे देता हु. मुझे कहते है लाभ है. ऐसी लगभग १०० केसेस मै कर चुका हु.

    ReplyDelete
  2. Mujhe dusk bulge ki problem hai..

    ReplyDelete